SUDHA MURTY KI LOKPRIYA KAHANIYAN (PB)

SUDHA MURTY KI LOKPRIYA KAHANIYAN (PB)

Price: ₹ 161.00
(as of Aug 03,2021 12:11:13 UTC – Details)

ISRHEWs

परोपकारी, उद्यमी, कंप्यूटर वैज्ञानिक, इंजीनियर, टीचर—सिर पर ऐसे कई ताज सजाए सुधा मूर्ति इन सबसे कहीं अधिक एक असाधारण कहानीकार हैं। साहित्य के लिए ‘आर.के. नारायण अवार्ड’, ‘पद्मश्री’, कन्नड़ साहित्य में उत्कृष्टता के लिए कर्नाटक सरकार का ‘अत्तिमब्बे पुरस्कार’ और ‘रेमंड क्रॉसवर्ड लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड’ के साथ उनके खजाने में बड़ों के लिए काल्पनिक, अकाल्पनिक उपन्यास, बच्चों की पुस्तकें, यात्रा-वृत्तांत और तकनीकी पुस्तकें शामिल हैं। यह पुस्तक उनके साहित्यिक सफर का मंगलगान है। विभिन्न संग्रहों से उनकी सर्वप्रिय कहानियों को चुनने के साथ ही कुछ नई कहानियों को एक विचारशील परिचय के साथ समेटे यह एक ऐसी पुस्तक है, जो अपनी लेखिका के समान ही, सभी अर्थों में बहुआयामी है।.




From the Publisher

Sudha Murty Ki Lokpriya Kahaniyan by Smt. Sudha Murty

Sudha Murty Ki Lokpriya Kahaniyan by Smt. Sudha Murty
Sudha Murty Ki Lokpriya Kahaniyan by Smt. Sudha Murty

विभिन्न संग्रहों से उनकी सर्वप्रिय कहानियों को चुनने के साथ ही कुछ नई कहानियों को एक विचारशील परिचय के साथ समेटे यह एक ऐसी पुस्तक है।

परोपकारी, उद्यमी, कंप्यूटर वैज्ञानिक, इंजीनियर, टीचर—सिर पर ऐसे कई ताज सजाए सुधा मूर्ति इन सबसे कहीं अधिक एक असाधारण कहानीकार हैं।
साहित्य के लिए ‘आर.के. नारायण अवार्ड’, ‘पद्मश्री’, कन्नड़ साहित्य में उत्कृष्टता के लिए कर्नाटक सरकार का ‘अत्तिमब्बे पुरस्कार’ और ‘रेमंड क्रॉसवर्ड लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड’ के साथ उनके खजाने में बड़ों के लिए काल्पनिक, अकाल्पनिक उपन्यास, बच्चों की पुस्तकें, यात्रा-वृत्तांत और तकनीकी पुस्तकें शामिल हैं। यह पुस्तक उनके साहित्यिक सफर का मंगलगान है।
विभिन्न संग्रहों से उनकी सर्वप्रिय कहानियों को चुनने के साथ ही कुछ नई कहानियों को एक विचारशील परिचय के साथ समेटे यह एक ऐसी पुस्तक है, जो अपनी लेखिका के समान ही, सभी अर्थों में बहुआयामी है।

***

Sudha Murthy
Sudha Murthy

श्रीमती. सुधा मूर्ति

सुधा मूर्ति का जन्म 19 अगस्त 1950 को हुआ था। वह एक लेखिका और एक सक्रिय भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता हैं।

वह एनजीओ, इन्फोसिस फाउंडेशन का नेतृत्व करती हैं और वह गेट्स फाउंडेशन की पब्लिक हेल्थ केयर इनिशिएटिव्स की जूरी भी हैं। सुधा मूर्ति ने हुबली से इंजीनियरिंग की डिग्री पूरी की।
वह कर्नाटक में पहली बार आई थी। इस उपलब्धि को कर्नाटक के सीएम ने स्वर्ण पदक से पुरस्कृत किया।
उसने कंपनी के चेयरपर्सन, जेआरडी टाटा को एक पत्र भी लिखा था, जिसमें टाटा मोटर्स में लैंगिक पक्षपात की शिकायत थी।
वह 7 साल तक पुणे में रहीं, जिसके बाद वह मुंबई चली गईं। यह INR 10,000 की उसकी बचत थी जिसने इन्फोसिस की स्थापना में योगदान दिया; एन.आर. नारायण मूर्ति हमेशा इस तथ्य का गर्व के साथ उल्लेख करते हैं, जब भी उनसे पूछा जाता है कि उन्होंने इन्फोसिस की नींव कैसे रखी।
सुधा मूर्ति वास्तव में टाटा मोटर्स, पुणे में चयनित होने वाली पहली महिला इंजीनियर थीं।

अनुक्रम

कई कहानियों की एक कहानी
अम्माँ, क्या यह आपका कर्तव्य नहीं है?
ईमानदारी का संबंध संस्कार से है
लाल चावल का भंडार
आलसी पोर्तादो
एक अलिखित जीवन
बँटवारे की रेखा
बूढ़े बाबा और उनके भगवान्

Recommended Book

Smt. Sudha Murty

Smt. Sudha Murty

Smt. Sudha Murty

Smt. Sudha Murty

Smt. Sudha Murty

Smt. Sudha Murty

Teen Hazar Tanke by Smt. Sudha Murty

Teen Hazar Tanke by Smt. Sudha Murty

Teen Hazar Tanke by Smt. Sudha Murty

Share This

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on telegram
Share on linkedin
Share on pinterest
Share on email